भक्ति और साधना के माध्यम से भारतीय संस्कृति की रक्षा की जा सकती है : संत दीनबंधु दास

0
10
छतरपुर। सीमावर्ती जनपद महोबा के ग्राम बिनौरा धाम श्री हनुमान जी मंदिर जोकि परा एवं रजौनी कि आसपास के ग्रामीणों के माध्यम से परम पूज्य संत श्री मलूक पीठाधीश्वर श्री राजेंद्र दास जी महाराज के परम कृपा पात्र संत श्री दीनबंधु दास जी महाराज वृंदावन धाम के द्वारा नवरात्रि में 9 दिनों तक बाल्मीकि रामायण का पाठ एवं शाम को  श्री हनुमान चालीसा पर प्रवचन किया गया जिसका सोमवार नवमी के दिन पूर्णाहुति हवन पूजन सुंदरकांड का संगीतमय पाठ एवं समस्त ग्रामीण का कन्या भोज भंडारा किया गया I संत श्री दीनबंधु दास जी के साथ वृंदावन से आए अंकित दुबे,  सोमेश, नारायण दीक्षित, राहुल उपाध्याय,  सावन दीक्षित, गजेंद्र सोनकिया, आशुतोष द्विवेदी, राहुल नायक, अभय नायक सहित सभी भक्तजनों ने कन्या भोज में अहम योगदान दिया!
     इस विशाल धार्मिक आयोजन में बुंदेलखंड के समाजसेवी राष्ट्रीय शिक्षा रत्न से सम्मानित संतोष गंगेले कर्मयोगी द्वारा इस आयोजन में पधारे सभी संतो सहयोगी यों एवं कन्याओं का पूजन बंधन सम्मान किया गया बेटियों को साहित्य सामग्री वितरण की गई आसपास के ग्रामीणों को समाज सुधार एवं परिवार की सामाजिक सुख के लिए विचारों से प्रभावित किया गया साथ में उन्हें मानसिक स्वच्छता नशा मुक्ति बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ स्वच्छ भारत अभियान दहेज एक कलंक है दुर्घटना रोकने जैसे विषयों को लेकर के संकल्प भी दिलाया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here